My Education

Affiliate marketing tips and ideas in Hindi एफिलिएट मार्केटिंग कैसे करें

3 affiliate marketing idias in hindi

 Affiliate Marketing की आदर्श दुनिया के लिए आपकी वेबसाइट, ग्राहकों से निपटने, धनवापसी, उत्पाद विकास और रखरखाव की आवश्यकता नहीं है। यह ऑनलाइन व्यवसाय शुरू करने और अधिक लाभ कमाने के सबसे आसान तरीकों में से एक है। अपनी वेबसाइट पर किसी प्रोडक्ट्स को promote करके उसे सेल करवाकर अच्छा commissions कमाया जा सकता है। वहीं दूसरी ओर ईमेल के माध्यम से भी Affiliate products की बिक्री को बढ़ाया जा सकता है। अपने ग्राहकों के इमेल collect करके इन्हें मेल के माध्यम से प्रोडक्ट की जानकारी देकर उन्हें खरीदने के लिए आकर्षित किया जा सकता है। आप अपने यूट्यूब चैनल, वेबसाइट, ब्लॉग या फिर social media साईट पर फेसबुक, इंस्टाग्राम, ट्विटर अकाउंट की हेल्प से ऑनलाइन ही उनके प्रोडक्ट एवं सर्विस को बेच कर पैसे कमा सकते हैं।

मान लें कि आप पहले से ही एक affiliate marketing program कर रहे हैं, तो वह अगली चीज़ क्या है जो आपको करना चाहिए बेहतर कमीशन पाने करने के लिए। अपने affiliate प्रोग्राम कमीशन को बढ़ाने के लिए यहां कुछ सुझाव दिए गए हैं।

3 way to boost your affiliate commissions | affiliate marketing ideas

1. प्रचार करने के लिए सर्वोत्तम कार्यक्रम और उत्पादों को जानें। जाहिर है, आप एक ऐसे कार्यक्रम को बढ़ावा देना चाहेंगे जो आपको कम से कम समय में सबसे अधिक लाभ प्राप्त करने में सक्षम बनाए। इस तरह के कार्यक्रम को चुनने पर विचार करने के लिए कई कारण हैं। ऐसे प्रोडक्ट्स चूने जिनमें कमीशन अधिक हो, ऐसे उत्पाद रखें जो आपके लक्षित दर्शकों के अनुकूल हों जिससे वह उसे खरीदने के बारे सोचे। उन प्रोडक्ट्स से बचें जिनमें समय पर भुगतान नहीं मिलता बल्कि ऐसे प्रोडक्ट्स चूने जिनमें आसानी से और समय पर भुगतान करने का एक ठोस रिकॉर्ड हो।

ऑनलाइन हजारों affiliate programs हैं जो आपको चुनिंदा होने का कारण देते हैं। आप अपने लिए अच्छे कमीशन के लिए सर्वश्रेष्ठ का चयन कर सकते हैं। अपनी वेबसाइट या ब्पलॉग के लिए या लघु ई-पुस्तकें लिखें। यदि आप जिस उत्पाद का प्रचार कर रहे हैं, उससे संबंधित संक्षिप्त रिपोर्ट लिखना शुरू करते हैं, तो आप अपने आप को अन्य सहयोगियों से अलग करने में सक्षम होंगे। आपको याद रखना है अन्य सहयोगी किस प्रकार से प्रोडक्ट्स का प्रचार करते है बस आपको उनसे बेहतर तरीके आजमाने चाहिए जिससे आप ग्राहकों को आकर्षित करने में सफल हो सकें।

आप अपनी रिपोर्ट में, कुछ मूल्यवान जानकारी मुफ्त में प्रदान करें। यदि संभव हो, तो उत्पादों के बारे में कुछ सिफारिशें जोड़ें। ईबुक के साथ, आपको विश्वसनीयता मिलती है। ग्राहक देखेंगे कि आप जो पेशकश कर रहे हैं उसे आज़माने चाहिए।

2. उन लोगों के ईमेल पते एकत्र करें और सहेजें जो आपकी निःशुल्क ई-पुस्तकें डाउनलोड करते हैं। यह एक साधारण बात है कि कोई भी व्यक्ति पहली ही बार में किसी प्रोडक्ट्स को भरोसा नहीं करते इसलिए उसे खरीदने पर डरते हैं भले ही वह वह प्रोडक्ट उनके लिए सही होता है और उसे भूल जाते हैं। ऐसे लोगों को आप ईमेल भेज सकते हैं और उन्हें भरोसा दिला सकते जिसके ग्राहक उसे खरीदने के बारे में पुनः सोचे।

यही कारण है कि आपको उन लोगों की संपर्क जानकारी एकत्र करनी चाहिए जिन्होंने आपकी रिपोर्ट और ई-बुक्स डाउनलोड की हैं। आप इन संपर्कों को आपसे खरीदारी करने के लिए याद दिलाने के लिए उनका अनुसरण कर सकते हैं। विक्रेता की वेबसाइट पर भेजने से पहले किसी संभावना की संपर्क जानकारी प्राप्त करें। ध्यान रखें कि आप उत्पाद मालिकों के लिए मुफ्त विज्ञापन प्रदान कर रहे हैं। आपको भुगतान तभी मिलता है जब आप बिक्री करते हैं। यदि आप संभावनाओं को सीधे विक्रेताओं को भेजते हैं, तो संभावना है कि वे आपसे हमेशा के लिए खो जाएंगे।

लेकिन जब आपको उनके नाम मिलते हैं, तो आप उन्हें हमेशा अन्य मार्केटिंग संदेश भेज सकते हैं ताकि वे केवल एकमुश्त बिक्री के बजाय एक चालू कमीशन अर्जित कर सकें। एक ऑनलाइन न्यूज़लेटर या ईज़ीन प्रकाशित करें। किसी अजनबी को बेचने की तुलना में किसी ऐसे व्यक्ति को उत्पाद की सिफारिश करना हमेशा सर्वोत्तम होता है जिसे आप जानते हैं। अपना स्वयं का समाचार पत्र प्रकाशित करने के पीछे यही उद्देश्य है। यह आपको अपने ग्राहकों के साथ विश्वास के आधार पर संबंध विकसित करने की भी अनुमति देता है।

बिक्री पिच के साथ उपयोगी जानकारी प्रदान करने के बीच यह रणनीति एक नाजुक संतुलन है। यदि आप सूचनात्मक संपादकीय लिखना जारी रखते हैं तो आप अपने पाठकों में पारस्परिकता की भावना पैदा करने में सक्षम होंगे जो उन्हें आपके उत्पादों को खरीदकर आपका समर्थन करने के लिए प्रेरित कर सकते हैं।

3. व्यापारियों से सामान्य से अधिक कमीशन मांगें। यदि आप किसी विशेष affiliate प्रोग्राम के साथ पहले से ही सफल हैं, तो आपको कोशिश करनी चाहिए और व्यापारी से संपर्क करें और अपनी बिक्री के लिए प्रतिशत कमीशन पर बातचीत करें।

यदि व्यापारी होशियार है, तो वह आप में एक मूल्यवान संपत्ति खोने के बजाय आपके अनुरोध को स्वीकार कर सकता है। ध्यान रखें कि आप अपने व्यापारी के लिए एक शून्य-जोखिम निवेश हैं; इसलिए अपने कमीशन में वृद्धि के लिए अनुरोध करने में संकोच न करें। बस इसके बारे में उचित होने का प्रयास करें।

आपको इस बात का हमेशा ध्यान रखना हैं कि मजबूत Pay Per Click विज्ञापन लिखें। PPC सर्च इंजन ऑनलाइन विज्ञापन का सबसे प्रभावी माध्यम है। एक सहयोगी के रूप में, आप केवल Google ऐडवर्ड्स और ओवरचर जैसे पीपीसी अभियानों को प्रबंधित करके एक छोटी सी आय कर सकते हैं। फिर आपको यह देखने की कोशिश करनी चाहिए और निगरानी करनी चाहिए कि कौन से विज्ञापन अधिक प्रभावी हैं और किन लोगों को target करना है। इन रणनीतियों को आजमाएं और देखें कि यह कम से कम समय में आपके कमीशन की जांच में क्या अंतर ला सकता है।

बहुत से ऐसे लोग हैं जो अधिक लाभ और Affiliate Products की बिक्री प्राप्त करने के लिए भुगतान किए गए विज्ञापन अभियान शुरू करने पर भरोसा करते हैं।

अपना affiliate commissions कैसे बढ़ाएं

  • अपना ब्लॉग या वेबसाइट बनाये।
  • एक SEO रणनीति बनाएं।
  • सोशल मीडिया प्रोफाइल बनाएं।
  • अपने दर्शकों को बढ़ाएं।
  • गूगल पर विज्ञापन दें।
  • सोशल मीडिया पर प्रायोजित पोस्ट बनाएं।
  • ईमेल मार्केटिंग के साथ काम करें।
Also Read

डिजिटल मार्केटिंग क्या है?

Free digital Marketing course in hindi | डिजिटल मार्केटिंग क्या है?

digital Marketing in hindi

इस पोस्ट में हम बात करने वाले हैं digital Marketing क्या है? डिजिटल मार्केटिंग कैसे की जाती है? डिजिटल मार्केटिंग के प्रकार, तथा किन-किन चीजों का ध्यान रखना होता है।

Introduction to digital marketing डिजिटल मार्केटिंग का परिचय

डिजिटल मार्केटिंग को समझने से पहले आपको यह जनना जरूरी है, मार्केटिंग क्या होती है? यदि आपको लगता है कि मार्केटिंग का मतलब वस्तुयें खरीदने और बेचने से है तो शायद आप गलत हैं। मार्केटिंग का मतलव है अपने प्रोडक्ट्स या सर्विस को लोगों के सामने लाना। आप उन्हें सीधे नही बेच रहे हैं बल्कि आप उन्हें बता रहे हैं कि हमारा प्रोडक्ट्स या सर्विस आपके लिए बेहतर है। Marketing is how you are convenience your audience for your product but without direct selling them, this is called marketing. मार्केटिंग एक ऐसा माध्यम है जिसके द्वारा लोग अपने उत्पाद एवं अपनी सेवाओं को लोगों तक पहुंचा सकते हैं तथा उन्हें अपने product के बारे में सारी जानकारियाँ भी दे सकते हैं। इतना ही नहीं, मार्केटिंग के द्वारा आप लोगों तक पहुँच कर उनकी आवश्यकताओं के बारे में जान सकते है व उनकी जरूर के अनुसार अपने व्यवसाय को उन तक पहुचा सकते हैं। इस तरह की मार्केटिंग को डायरेक्ट मार्केटिंग कहा जाता है। डायरेक्ट मार्केटिंग के द्वारा आप ग्राहकों के बीच में अपनी एक अलग पहचान बना सकते हैं। यहाँ तक आप मार्केटिग के बारे में समझ गए होंगे अब जानते हैं की डिजिटल मार्केटिंग क्या है?

Digital marketing – करना आपको मार्केटिंग ही होता है लेकिन यहाँ पर मार्केटिंग करने के लिए digital साधनों जैसे- इन्टरनेट, सोशल मीडिया, ईमेल, वेबसाइट, मोबाइल एप्स आदि का उपयोग करके अपने प्रोडक्ट्स और अपनी सेवाओं को लोगो पहुचाया जाता है साथ प्रोडक्ट्स से जुडी जानकारी भी दी जा सकती है। अपनी उत्पाद एवं अपनी सेवाओं को डिजिटल साधनो से मार्केटिंग करने की प्रतिक्रिया को डिजिटल मार्केटिंग या ऑनलाइन मार्केटिंग कहते है। आज के समय में मार्केटिंग के लिए डिजिटल मार्केटिंग अच्छा विकल्प माना जाता है। बड़ी-बड़ी कम्पनियां जो अपना सामान बना रही हैं और उसे आसानी से लोगों तक पहुंचा रही हैं। इससे डिजिटल व्यापार को बढ़ावा मिल रहा है।

How to do digital marketing for business डिजिटल मार्केटिंग कैसे की जाती है?

डिजिटल मार्केटिंग ग्राहको तक पहुचने का एक अच्छा और सरल माध्यम है। पहले के टाइम पर जब मोबाइल फ़ोन नहीं हुआ करते थे उस समय कंपनिया अपने प्रोडक्ट्स का विज्ञापन टेलिविज़न, न्यूज़ पेपर, रेडिओ आदि के द्वारा कराती थीं। लोगों को टीवी पर विज्ञापन देखकर या रेडिओ पर सुनकर प्रोडक्ट्स के बारे में पता चलता था और लोग उसे बाजार से खरीद लेते थे। परन्तु आज के समय में कम्पनियां अपने व्यापार या व्यवसाय को बढ़ाने के लिए इन्टरनेट उपयोग करते है। अपने बिजनेस को बढ़ाने तथा ज्यादा से लोगों तक पहुँचाने के लिए लोग ऑनलाइन तरीका अपनाने लगे हैं।

Types of Digital Marketing डिजिटल मार्केटिंग के प्रकार

digital Marketing in hindi
Types of Digital Marketing

Search Engine Optimization (SEO)

SEO का मतलब सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन है और यह एक वेबसाइट या किसी वेब पेज की गुणवत्ता और मात्रा में सुधार करने की प्रक्रिया है। SEO आपकी साइट को सर्च इंजन के लिए बेहतर बनाती है, ताकि इसके पेज आसानी से खोजे जा सकें, इसके परिणामस्वरूप, सर्च इंजन उन्हें बेहतर रैंक हो सके।

Pay-per-Click (PPC)

PPC या पे-पर-क्लिक एक प्रकार का इंटरनेट मार्केटिंग है जिसमें विज्ञापनदाताओं को हर बार उनके किसी विज्ञापन पर क्लिक करने पर शुल्क देना शामिल होता है। बस, आप विज्ञापन के लिए केवल तभी भुगतान करते हैं जब आपके विज्ञापन पर वास्तव में क्लिक किया गया हो। यह अनिवार्य रूप से वेबसाइट विज़िट को व्यवस्थित रूप से बढ़ाने के अलावा, लोग अपने प्रोडक्ट बेचने के लिए और ज्यादा सी ज्यादा ग्राहकों तक पहुचाने के लिए इसका उपयोग करते हैं ppc का उपयोग करते हैं।

Social Media Marketing

सोशल मीडिया मार्केटिंग (SMM) किसी उत्पाद या सेवा को बढ़ावा देने के लिए सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म और वेबसाइटों का उपयोग है। वे प्लेटफॉर्म जिन पर उपयोगकर्ता सोशल नेटवर्क बनाते हैं और जानकारी साझा करते हैं – कंपनी के ब्रांड का निर्माण करने, बिक्री बढ़ाने और वेबसाइट ट्रैफ़िक को बढ़ाने के लिए इसका प्रयोग किया जाता है। सोशल मीडिया मार्केटिंग चिकित्सकों और शोधकर्ताओं दोनों के लिए अधिक लोकप्रिय हो रहा है।

Content Marketing

इसका उपयोग प्रासंगिक लेख, वीडियो, ई-पुस्तकें, मनोरंजन और वेबिनार जैसी चीजें बनाकर बड़ी-बड़ी कंपनियां व बिज़नेस मैन अपने प्रोडक्ट्स तथा सर्विस को दर्शकों तक पहुचाते हैं तथा अपने दर्शकों को आकर्षित करने और बनाए रखने का प्रयास करते हैं। इससे ब्रांड जागरूकता को बढ़ावा देता है मिलता है। उदाहरण के लिए आप youtube पर कोई विडियो देख रहे हैं जिसमें किसी product के बारे में जानकारी दी जा रही है और बीच-बीच में इस बात पर जोर दिया जा रहा है यह product लोगों के बेहतर है ताकि दर्शक उस प्रोडक्ट्स खरीदने के लिए आकर्षित हो इसे ही Content Marketing कहा जाता है। इसी प्रकार वेबसाइट पर आर्टिकल के माध्यम से किसी प्रोडक्ट्स को promote करना भी Content Marketing कहलाता है।

Email Marketing

यह मार्केटिंग का एक अच्छा विकल्प है Email Marketing से के माध्यम से costomer को डायरेक्ट टारगेट किया जा सकता है। इसके माध्यम से आप अपने ग्राहकों को अपने में नए उत्पादों, छूटों और अन्य सेवाओं से अवगत करा सकता है। आमतौर पर ईमेल का उपयोग करके लोगों के समूह को या वर्तमान ग्राहक को भेजे गए ऑफर, प्रोडक्ट्स विशेषताएं आदि को ईमेल मार्केटिंग माना जा सकता है। इसमें विज्ञापन भेजने, व्यवसाय का अनुरोध करने, या बिक्री के लिए ईमेल का उपयोग किया जाता है। इसमें विशिष्ट व्यक्तियों को उनकी रूचि के अनुसार ऑफर दिए जा सकते हैं। निजी ग्राहकों को व्यापार या सेवाओं पर विशेष अवसरों पर ऑफर पेशकश करना उदाहरण के लिए, flipcart अपने ग्राहकों को दिवाली के शुभ अवसर एक ईमेल भेजता है जिसमें वह ग्राहकों को बताता है की हमारे पास आपके लिए एक डबल धमाका ऑफर है ‘अपनी अगली खरीददारी पर 40% तक की छूट पाएँ।

Mobile Marketing

मोबाइल मार्केटिंग ऑनलाइन मार्केटिंग तकनीक है जिसका उद्देश्य स्मार्टफोन और अन्य मोबाइल उपकरणों के माध्यम से वेबसाइटों, ईमेल, एसएमएस और एमएमएस, सोशल मीडिया, पुश नोटिफिकेशन और ऐप के माध्यम से ग्राहकों टारगेट करना होता है।

Marketing Analytics

मार्केटिंग एनालिटिक्स एक मार्केटिंग गतिविधि के प्रदर्शन का मूल्यांकन करने के लिए डेटा का अध्ययन है। मार्केटिंग से संबंधित डेटा के लिए प्रौद्योगिकी और विश्लेषणात्मक प्रक्रियाओं को लागू करके, व्यवसाय समझ सकते हैं कि उपभोक्ता कार्यों को क्या प्रेरित करता है, उनके मार्केटिंग अभियानों को परिष्कृत करता है और निवेश पर उनकी वापसी को अनुकूलित करता है।

Affiliate Marketing

Affiliate Marketing एक विज्ञापन मॉडल है जिसमें एक कंपनी तीसरे पक्ष के प्रकाशकों को ट्रैफ़िक उत्पन्न करने या कंपनी के उत्पादों और सेवाओं को लोगों तक पहुचाने के लिए प्रोत्साहित करती है। तृतीय-पक्ष प्रकाशक सहयोगी हैं के रूप में किसी कम्पनी के प्रोडक्ट्स जानकारी या ऑफर अपनी वेबसाइट, सोशल मीडिया, या youtube चैनल के माध्यम से अपने जानने वालो तक पहुंचाते हैं और उन्हें खरीदने के लिए आकर्षित हैं और उस Affiliate link से जितने भी costomers प्रोडक्ट्स खरीदते हैं कंपनी तृतीय-पक्ष प्रकाशक कमीशन देती है।

Affiliate marketing की शुआत कैसे करें

  1. Decide on a platform.
  2. Choose your niche.
  3. Find affiliate programs to join.
  4. Create great content.
  5. Drive traffic to your affiliate site.
  6. Get clicks on your affiliate links.
  7. Convert clicks to sales.

Affiliate marketing tips and ideas in hindi

डिजिटल मार्केटिंग में किन-किन चीजों का ध्यान रखना होता है

  • अपने ग्राहकों को समझें।
  • अपने परिणामों का अनुकूलन करें।
  • बार-बार होने वाले नुकसान को रोकें।
  • वर्तमान और पिछला डेटा विश्लेषण।
  • ग्राहक विभाजन विश्लेषण।

Categories